Basant Panchami – Saraswati Puja

Posted by

Basant Panchami – Saraswati Puja

Basant Panchami – Saraswati Puja

बसंत पंचमी 2019 की तारीख को लेकर बहुत से संदेह है। बहुत से लोगों को नहीं पता की बसंत पंचमी2019 कब है । तो हम आपको बता दें कि बसंत पंचमी 2019 शनिवार और रविवार यानी 9 फरवरीऔर 10 फरवरी को है। देश के कुछ हिस्सों में बसंत पंचमी आज मनाई जा रही है। तो वहीं देश के कुछहिस्सों में रविवार को मनाया जाएगा।

आज हम आपको बता रहे हैं कि बसंत पंचमी के दिन पूजा कैसे की जाती है। बसंत पंचमी के दिन मांसरस्वती की पूजा की जाती है। इस दिन को मां सरस्वती के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है।कई कथाओं में से एक कथा यह भी है कि ब्रह्मा जी ने सरस्वती की रचना बसंत पंचमी  के दिन की थी।जब सरस्वती प्रकट हुईं तो उनके एक हाथ में वीणा थी। ब्रह्मा जी ने उन्हें वीणा बजाने को कहा जिसकेबाद संसार की हर चीज में स्वर आ गया। जिसके बाद ब्रह्मा जी ने मां सरस्वती को वाणी की देवी नामदिया। मां सरस्वती को ज्ञान, संगीत, कला की देवी भी कहा जाता है। बसंत पंचमी  के दिन मां सरस्वतीकी खास पूजा होती है। जिसकी विधि इस प्रकार है।

पूजा के दौरान भूलकर भी ना करें ये 5 काम, वरना विद्या की देवी हो जाएंगी नाराज

  • बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा करने के लिए एक आसन बनाएं जिस परउनकी प्रतिमा रखें। 
  • कलश की स्थापना करें और भगवान गणेश का नाम लेकर पूजा करें।
  • पूजा शुरू करने से पहले मां सरस्वती (Saraswati) को आचमन करें और उन्हें स्नानकराएं। 
  • मां सरस्वती को पूजा (Saraswati Puja) में मां सरस्वती को पीले रंग के फूल चढ़ाएं, औरश्रंगार करें। 
  • माता के चरणों में गुलाल अर्पित करें। 
  • माता सरस्वती को पीले फल या फिर मौसमी फलों के साथ बूंदी चढ़ाएं। 
  • मां सरस्वती को मालपुए और खीर का भोग लगाएं। 
  • मां सरस्वती ज्ञान और वाणी की देवी हैं, पूजा के समय वाद्ययंत्रों का भी पूजन करें।
  • कई लोग मां सरस्वती का हवन करते हैं। अगर आप भी हवन करने की इच्छा रखते हैं तोहवन करने के साथ ‘ओम श्री सरस्वत्यै नम: स्वहा” मंत्र का 108 बार जाप करें।
  • मां सरस्वती वंदना मंत्र का जाप करें।

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता 

या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। 

या ब्रह्माच्युत शंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता 

सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥ 

शुक्लां ब्रह्मविचार सार परमामाद्यां जगद्व्यापिनीं 

वीणापुस्तकधारिणीमभयदां जाड्यान्धकारापहाम् 

हस्ते स्फटिकमालिकां विदधतीं पद्मासने संस्थिताम्‌ 

वन्दे तां परमेश्वरीं भगवतीं बुद्धिप्रदां शारदाम्॥२॥

बसंत पंचमी का त्योहार (Festival) कल यानी रविवार को मनाया जाएगा। उत्तर भारत (North India)के कई राज्यों में बसंत पंचमी (Basant Panchami) और सरस्वती पंचमी (Saraswati Panchami)के नाम से जानी जाने वाली ये पंचमी नौ फरवरी (9 February) यानी आज मनाई जाएगी। बसंतपंचमी का त्योहार विद्या और बुद्धि की देवी मां सरस्वती (Maa Saraswati) को समर्पित है। बसंतपंचमी (Basant Panchami) के दिन माता सरस्वती की आराधना (Worship) की जाती है। शास्त्रोंके मुताबिक बसंत पंचमी माघ मास (Magh Mass) की पंचमी तिथि को मनाई जाती है। उत्तर प्रदेश केप्रयागराज में चल रहे कुंभ में बसंत पंचमी के दिन शाही स्नान भी होगा। माता सरस्वती को ज्ञान, कलाऔर संगीत की देवी कहा जाता है और इस दिन उनकी पूजा की जाती है। बसंत पंचमी के दिन पीलेरंग (Yellow Colour) का बेहद खास महत्व (Improtance) होता है। इसी दिन लोग पीले कपड़े(Yellow Cloth) पहनकर बसंत पंचमी का स्वागत (Welcome) करते हैं।

बसंत पंचमी के दिन पीले रंग और सरस्वती पूजा का महत्व

बसंत पंचमी के दिन पीले रंग का बहुत महत्व है, इस दिन पीला रंग बहुत शुभ माना जाता है। पीला रंगमां सरस्वती को बहुत प्रिय भी है। पीले रंग के पीछे दो महत्वपूर्ण कराण माने जाते हैं।

* बसंत पंचमी पर पीले रंग का पहला महत्वपूर्ण कारण यह कि बसंत को ऋतुओं का माना जाता है।इस दिन सर्दियां के समाप्त होकर मौसम सुहाना होना शुरू हो जाता है और पेड़-पौधों पर नई पत्तियां,फूल-कलियां खिलने शुरू हो जता हैं। सरसों की फसल से धरती पीली नजर आने लगती है। इसी दिनलोग पीले कपड़े पहनकर बसंत पंचमी का स्वागत करते हैं।

* बसंत पंचमी पर पीले रंग का दूसरा महत्वपूर्ण कारण यह है कि मान्यता के मुताबिक बसंत पंचमी केदिन सूर्य उत्तरायण होता है। जिस कारण सूर्य की किरणे पीली दिखती है और यह इस बात का प्रतीकहै कि सूर्य की तरह गंभीर और प्रखर बनना चाहिए। इन्हीं दो कारणों की वजह से बसंत पंचमी के दिनपीले रंग का खास महत्व रहता है। 

पूजा में करें ये चीजे शामिल, मिलेगा मनचाहा वरदान

बसंत पंचमी के दिन विद्या और बुद्धि की देवी मां सरस्वती को सफेद और पीले रंग के फूल, पीले रंगकी बूंदी का पकवान, पीले रंग का वस्त्र, कलम और केसर के साथ पीले चंदन अत्यधिक प्रिय है। मांसरस्वती के भक्त पूजा के दौरान ये सभी जीचें उन्हें अर्पित करते हैं। मां सरस्वती बहुत प्रसन्न होती हैंऔर मनचाहा वरदान देतीं हैं।

बसंत पंचमी का महत्व

पुराणों के अनुसार बसंत पंचमी के दिन भगवान श्री कृष्ण ने माता सरस्वती से खुश होकर उन्हें वरदानदिया था कि इसी दिन तुम्हारी आराधना होगी। इसके अलावा श्री कृष्ण ने एक और वरदान दिया था।वह वरदान था कि ज्ञान, कला और विद्या की देवी के रूप में पूजा संपूर्ण स्थानों पर होगी।

Saraswati Puja 2019 : सरस्वती पूजा कथा

 

10 फरवरी को बसंत पंचमी (Basant Panchmi) है। इस दिन सरस्वती की पूजा (Saraswati Puja)होती है। विद्यार्थी विद्या प्राप्त करने के लिए मां सरस्वती की आराधना करते हैं। बसंत पंचमी की कथा(Basant Panchmi Ki Katha) बहुत से लोगों को नहीं पता है। तो आज हम आपको बता रहे हैंसरस्वती पूजा की कथा (Saraswati Puja Ki Katha) के बारे में-

सम्पूर्ण जगत की कारण भूत आदि शक्ति परमेश्वरी की अभिव्यक्ति तीन स्वरूपों में होती है- काली(Kali), लक्ष्मी (Laxmi) और सरस्वती (Saraswati) । पूर्वकाल में जब शुम्भ और निशुम्भ ने इन्द्रादिदेवताओं के सम्पूर्ण अधिकार छीन लिए, तब देवताओं ने उन दोनों दैत्यों के अत्याचारों से मुक्ति प्राप्तकरने के लिए जाकर देवी भगवती की अनेक प्रकार से स्तुति की।

देवताओं की प्रार्थना पर भगवती पार्वती ने प्रकट होकर उन्हें दर्शन दिया। पार्वती देवी के शरीर कोष सेउसी समय सरस्वती देवा प्रकट हुई। पार्वती देवी के शरीर कोष से प्रकट होने के कारण ही सरस्वतीदेवी का एक नाम कौशिकी प्रसिद्ध हुआ। उन्होंने शुम्भ, निशुम्भ तथा धूम्रलोचन आदि देव-शत्रुओंकासंहार करके देवताओंका संकट दूर किया।

देवी भागवत में आया है कि सरस्वती देवी का प्राकट्य भगवान श्री कृष्ण की जिह्वा के अग्रभाग सेहुआ। उन्होंने सरस्वती जी को भगवान‍् नारायण को समर्पित कर दिया। सबसे पहले भगवान् श्रीकृष्ण ने ही संसार में सरस्वती जी की पूजा प्रचारित की। पूर्वकाल में भगवान‍् नारायण की तीनपत्नियां थीं- लक्ष्मी, गड्रा और सरस्वती। तीनों ही बड़े प्रेम से भगवान‍् नारायण की सेवा में रहती थीं।

एक दिन भगवान‍ ही इच्छा से एक घटना हो गयी, जिससे गड्रा और सरस्वती को भगवान के चरणों सेकुछ काल के लिये दूर हट जाना पड़ा। एक बार भगवान‍ नारायण जब अन्त:पुर पधारे तब तीन देवियांएक स्थान पर बैठकर परस्पर प्रेमालाप कर रही थीं। भगवान‍् को आया देखकर तीनों देवियां उनकेस्वागत के लिए खड़ी हो गयीं।

उस समय गड्रा ने विशेष प्रेमपूर्ण दृष्टि से भगवान की ओर देखा, भगवान ने भी उनकी ओर देखकरहंस दिया और बाहर चले गये। सरस्वती जी ने गड्राके इस बर्ताव को अनुचित बताकर उनके प्रतिआक्षेप किया। गड्राजी ने भी कठोर शब्दों में सरस्वती जी का प्रतिवाद किया और अन्तमें दोनों देवियोंने एक-दूसरे को नदी होने का शाप दे दिया।

इतने में ही भगवान नारायण पुन: अन्त: पुर में लौट आये। तब देवियां प्रकृतिस्थ हो चुकी थीं। उन्हेंअपनी भूल मालूम हुई तथा वे भगवान के चरणों से विलग होने के भय से दु:खी होकर रोने लगीं।उनकी व्याकुलता से दयार्द्र होकर भगवान ने कहा- ‘तुमलोग अपने एक अंश से नही हो ओगी, शेषअंशसे तुम्हारा निवास हमारे पास ही रहेगा।

सरस्वती एक अंशसे नही होंगी। एक अंश से इन्हें ब्रह्माजी के पास रहना पड़ेगा तथा शेष अंश से ये मेरेही पास रहेंगी। कलियुग के पांच हजार वर्ष बीतने के बाद तुम दोनों का शाप से उद्धार हो जायगा।’भगवान के आदेशानुसार सरस्वतीजी भारत वर्षमें अंशत: अवतीर्ण होकर ‘भारती’ कहलायीं। दूसरेअंशसे ब्रह्माजी की पत्नी होने के कारण उनकी ‘ब्रह्मी’ नामसे प्रसिद्धि हुई।

सरस्वती और आदिकवि

एक समय की बात है, ब्रह्माजीने सरस्वती जी से कहा- ‘देवी! तुम किसी योग्य पुरुषके मुखमेंकवित्वशक्ति होकर निवास करो।’ ब्रह्माजीकी आज्ञा मानकर सरस्वतीजी योग्यपात्रकी खोजमेंनिकलीं। योग्यपात्रकी खोज करते-करते उन्हें पूरा सत्ययुग बीत गया।

त्रेतायुग के आरम्भ में सरस्वतीजी घूमते-घूमते भारत वर्ष में तमसा नदी के तटपर पहुंचीं, वहांमहातपस्वी वाल्मीकि निवास करते थे। महर्षि वाल्मीकि उस समय अपने आश्रम में घूम रहे थे। इतने मेंही उनकी दृष्टि एक क्रौंच पक्षी पर जा पड़ी, जो उसी समय एक व्याधके बाणके घायल होकर गिरा था।

पक्षीका सारा शरीर लहूलुहान हो गया था। क्रौंची उसके पास बैठकर करुण क्रन्दन कर रही थी।दयालु महर्षिके मुखके उसी समय करुणासे द्रवीभूत होकर संसारके प्रथम महाकाव्यका पहला श्लोकनिकला। यह श्लोक मां सरस्वती देवीकी कृपाका प्रथम प्रसाद था।

उन्होंने महर्षिको देखते ही उनकी असाधारण योग्यता का परिचय पा लिया था। सरस्वतीजी केकृपापात्र होकर महर्षि आदि कवि के नामसे विख्यात हुए। इसी प्रकार सरस्वती देवी अनेक प्रकारकीलीलाओं से जगत का कल्याण करती हैं। पुराणादि तथा तन्त्र ग्रन्थोंमें इनकी महिमाका विस्तृत वर्णन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *